Posted in Uncategorized

Poem #13

कहते हैं चाहिए, हिन्दूओं से आजादी,

कहते हैं की लेकर रहेंगे आजादी,

वंशज तुम जिनके, थे चाहते यही,

कर बैठै अपनी जान की बरबादी

निशंक याद रखना, हम हिन्दू हैं,

इस भारत माँ की संतान हैं,

माँ की लाज को गर आंच लगेगी,

उखाड़ देंगे तूझे, जो करे गद्दारी

अगर इस देश में रहना होगा,

उसके तरीकों से जीना होगा,

माँ के आँचल के ढोंगी प्रहरी,

क्या शिक्षा सिखाती तुम्हें? दंगाई

शिक्षा का है काम निराला,

फैलाए सब जग उजियारा,

जो जात-धर्म की बातें छोडी,

नाचे स्वयं वहां माँ सरस्वती।

Just tried to pen a few thoughts about the ongoing protests at a few places in India.

Ashamed about the media which just highlights all such stray incidents and keeps on giving them prime time. The fourth pillar of Democracy, the media, has sold out and is biased. They run a narrative to suit their TRP’s and create an image of backward India, a non developing and a non inclusive India.

Author:

Am a teacher by profession. A student of History and international politics. Believe that Bhakti (Devotion) and Humanism can only save Humanity. Revere all creation. My thoughts are influenced by His Holiness Pandurang Shashtriji Athavale

6 thoughts on “Poem #13

  1. मैं.आपके विचारों से पूरी तरह सहमत हूँ।
    इन गद्दारों का काम यही है। लोगों में सदा ही डर पैदाकरके अपने आमदनी को बढाते रहना। दशकों सालों से यही कर रहे हैं।

    Liked by 2 people

  2. बचपन की कविता हृदय नहीं वह पत्थर है जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं याद आ गई 🙏🙏

    Liked by 2 people

  3. संतुलित एवं बढ़िया कविता।👌👌

    जिससे चाहत आजादी की,
    उसने बेड़ी कब डाली,
    प्रेम किया जिसने उसका ही
    चाह रहे ये बर्बादी।

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.