Posted in #poem

रूद्रावतार…

Representational picture

शिवजी ने तीसरी आँख खोल ली है,

कैलास समेत पृथ्वी अब डोलेगी।

मातृभूमि के वीर जवानों ने कल खेली होली है,

अब चीन ही क्या! सारी दुनिया चरण चूमेगी।।

जागो माँ के सपूतों जागो,

समय बीता अब सोने का।

देश के वीर जवानों ने कल जान की बाझी लगा दी,

अब समय आया, हवन कर, अपनी समिधा का।।

राष्ट्र मांग रहा है आज हमसे,

आओ दें हम भी बलिदान

एक एक इंच इस जमीन को अरिमुक्त करें,

यही है सिंधु संस्कृति की पहचान।।

अपनी माँ को कोई कैसै आँख दिखाए?

हम उस आँख को नोंच लेंगे।

अब ना कोई हमें शांति सिखाए!

हम अपना रास्ता चून लेंगे।।

Dedicated to the 20 Soldiers who sacrificed their life towards their duty towards Motherland India.

I know it might not sound as a perfect poetry, but at the same time would not like to mince my words so have left it as it is without worrying about its metre.

Jai Hind!!!

Author:

Am a teacher by profession. A student of History and international politics. Believe that Bhakti (Devotion) and Humanism can only save Humanity. Revere all creation. My thoughts are influenced by His Holiness Pandurang Shashtriji Athavale

17 thoughts on “रूद्रावतार…

  1. अहिंसा परमो धर्मः धर्म हिंसा तथैव च:

    We will together ❤🇮🇳🌼🕉

    कह दो चिनगारी का खेल बुरा होता है

    औरों के घर आग लगाने का जो सपना

    वह अपने ही घर में सदा खरा होता है।

    #boycott chinese

    Liked by 5 people

  2. इन शहीदों के लिए शब्दों की श्रधांजलि कम होगी। 🙏🙏

    हाथ मे सोने का कंगन लिए बाघ,
    खुद को शाकाहारी बन जाने का ढोंग करता,
    दुर्योधनी सोच लिए सरहद रौंदने को ततपर पड़ोसी
    मन में घृणित रोग रखता,
    दशानन का साधु बन आना,
    और हर बार तेरा
    छला जाना,
    आखिर कब तक?
    आखिर कब तक
    उस अधर्मी संग धर्म दिखलाओगे,
    आखिर कब तक उस दैत्य से मित्रता निभाओगे,
    पाशे का छल,द्रौपदी की चीख,और उबाल लेता धमनियों में
    शोणित की परवाह भूल,आखिर कबतक तुम
    शकुनि के झाँसे में आवोगे।

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.