Posted in Uncategorized

हिन्दी दिवस

आप सभीको हिन्दी दिवस की शुभकामनाएं ।

आज के दिन कुछ ऐसी रचनाएँ आपके समक्ष रख रहा हूँ जिसने मेरा हिन्दी के प्रति लगाव बढाया। हालांकि मेरी मातृभाषा गुजराती है, अपितु हमारी पाठशाला के शिक्षकों ने हम सभी इतर भाषी बच्चों पर काफी मेहनत की है। बडे चाव से पढाया और राष्ट्रभाषा परीक्षाओं के लिए प्रवृत्त कीया एवं तैयारी भी करवायी। आज भी मैं मेरे गुरूजन शर्माजी तथा मिश्राजी का कृतज्ञ हूँ ।

आज के दिन, वाचकमित्रों, मैं अपनी सबसे मनपसंद कविता आप सभी के साथ साझा करना चाहूँगा । कविता जानी पहचानी है। कवि दुष्यंत कुमार की जुझारू कलम से लिखी गयी यह कविता हर पीढी को प्रेरणा देती रही है तथा देती रहेगी ।

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए

आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी
शर्त थी लेकिन कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं
मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए

उन्हीं की एक दूसरी कविता जो रग रग में एक विश्वास जगा देती है। वह भी यहाँ उद्धृत करता हूँ ।
इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है,
नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है।
एक चिनगारी कही से ढूँढ लाओ दोस्तों,
इस दिए में तेल से भीगी हुई बाती तो है।
एक खंडहर के हृदय-सी, एक जंगली फूल-सी,
आदमी की पीर गूंगी ही सही, गाती तो है।
एक चादर साँझ ने सारे नगर पर डाल दी,
यह अंधेरे की सड़क उस भोर तक जाती तो है।
निर्वचन मैदान में लेटी हुई है जो नदी,
पत्थरों से, ओट में जा-जाके बतियाती तो है।
दुख नहीं कोई कि अब उपलब्धियों के नाम पर,
और कुछ हो या न हो, आकाश-सी छाती तो है।

ऐसी तो कई कविताएं। कईयों कवि। कईयों लेखक। जिनकी कोई गिनती नहीं! ऐसी सम्मृद्ध भाषा को मनाने का आज दिन है। तो आओ साथ मिलकर कुछ बातें करें?

Author:

Am a teacher by profession. A student of History and international politics. Believe that Bhakti (Devotion) and Humanism can only save Humanity. Revere all creation. My thoughts are influenced by His Holiness Pandurang Shashtriji Athavale

19 thoughts on “हिन्दी दिवस

  1. Dono kavitaayein mujhe bahut achhi lagi. Maine pahli baar 9th class mein famous poet Dushyant Kumar ki kavita padhi. Mujhe inki kavitaayein bahut achi lagti hai.
    Aapke blog ki first poem ko mai pahle bhi padh chuka hu.
    Aapke iss blog se mujhe yeh bhi jaanne ko mila ki aapki mothertongue Maraathi nahi, Gujaraati hai….
    Mujhe ye dono kavitaayein bahut achi lagi

    Liked by 3 people

  2. Bohot badhiya ….

    hume bhi kuch yaad aaapki kavita se …per humara source lucknow me hai …pahuch ker batate bro 🙂

    Bahut badhiya kavita hai dushyant ji ki

    Liked by 2 people

  3. The richness of our language, our traditions, heritage can be felt in such beautiful prose. And as one digs deeper, its fragrance keeps on overwhelming us all over and over again. Yeh Mahan Diwas pe sabko hardik shubhkanaye.🙏🙏

    Liked by 1 person

  4. कितना खूबसूरत कविता पढ़ने का मौका दिया। वाकई दोनों कविताओं का क्या कहना। लाजवाब भाई जी।

    Liked by 1 person

  5. Such beautiful lettering… I used Google Translate to read it in English, and honestly it is breathtaking poetry… thank you so much for sharing it… and thanks for all you do to bring awareness.

    Liked by 1 person

  6. वाह बहुत ही लाजवाब दोनों कविताएँ.. धन्यवाद साझा करने के लिए🙏😊

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.